प्यार की किताब / Pyaar ki kitaab

www.jonasjacobsson.co
Photo by Jonas Jacobsson / Unsplash

प्यार की किताब कहू तुम्हे
या दिल के अरमान कहूं
जगती आँखों का ख्वाब कहूं
या कोई मेहमान कहूं
मधुशाला कहू तुमको मैं
या छलकता जाम कहूं
बसंत की बहार कहूं
या ठंढी सी शाम कहूं
जन्नत की हूर हो तुम
क्या मैं तुमको प्यार कहूं
मेरे दिल की तमन्ना हो तुम
सोचता हूँ इस बार कहूं
मेरे मन की कल्पना कहूं
या मैं इसे इकरार कहूं
मेरी हर धड़कन पढ़ती हो तुम
क्या फिर भी मैं एक बार कहूं
कभी तो मेरी आँखों में देखो प्यार
तुम कहो तो एक नहीं सौ बार कहूं …..
दिल कहूं जान कहूं, जीने की राह कहूं
दिल-ए-गुलजार, जान-ए-बहार कहूं …..
प्यार की किताब कहू तुम्हे
या दिल के अरमान कहूं

Show Comments

Get the latest posts delivered right to your inbox.